Vaidik Gyan...
Total:$776.99
Checkout

अल्लाह का नाम कुछ और गुण कुछ, यथा नाम तथा गुण नहीं अल्लाह में ||

Share post:

अल्लाह के नाम कुछ और,गुण से कोई संपर्क नहीं |
लोग कहते हैं यथा नाम तथा गुण होना चाहिए, लेकिन अल्लाह तो पूरा उल्टा ही है |
 
الجبار 10
10 न० नाम अल्लाह का है = अल जब्बारो = अर्थ: सबसे जबरदस्त =
अगर अल्लाह अपने नाम के अनुसार सबसे जबरदस्त होते, तो काफिरों को अपने आप ही नष्ट कर सकते थे | किन्तु कुरान को ध्यान से पढने पर ठीक इसका उल्टा ही मालूम पड़ता है | आप लोग भी विचार पूर्वक देख सकते हैं की अल्लाह के जो नाम है उसके अनुसार अल्लाह का काम है अथवा नहीं ?
एक तरफ तो अल्लाह अपने को जबरदस्त बताया | इतने होने और बताने पर भी अल्लाह न तो अपने फ़रिश्ते को आदम के सामने सिजदा करा सके, और न आदम को मना कर भी फल खाने से रोक पाए उस फल के खाने से आदम पति पत्नी जन्नती लिबास से निर्वस्त हो गये | जिसे अल्लाह ने खुद आदम को मना किया था खाने को देखें प्रमाण कुरान से | बहुत बार आया है कुरान में जैसा >
وَإِذْ قَالَ رَبُّكَ لِلْمَلَائِكَةِ إِنِّي جَاعِلٌ فِي الْأَرْضِ خَلِيفَةً ۖ قَالُوا أَتَجْعَلُ فِيهَا مَن يُفْسِدُ فِيهَا وَيَسْفِكُ الدِّمَاءَ وَنَحْنُ نُسَبِّحُ بِحَمْدِكَ وَنُقَدِّسُ لَكَ ۖ قَالَ إِنِّي أَعْلَمُ مَا لَا تَعْلَمُونَ [٢:٣٠]
अर्थ :- अल्लाह ने फरिश्तों से कहा आदम को सिजदा करो, उसने अल्लाह से कहा मैं सिजदा नहीं करूंगा मैं आग से बना हूँ यह मिटटी से बने हैं, मैं इससे पहले बना, मैं बड़ा हूँ इससे,इसे मैं सिजदा क्यों करता ? 2/30
इसी बात पर अल्लाह ने उसे जन्नत से फटकार लगाई,और निकाल दिया | कुरान में यह बातें बहुत जगहों पर है मैं तो सिर्फ नमूना दे रहा हूँ | उसके सिजदा न करने से अल्लाह ने उसे अपने जन्नत से निकाल दिया प्रताड़ित करते हुए |
وَلَقَدْ خَلَقْنَاكُمْ ثُمَّ صَوَّرْنَاكُمْ ثُمَّ قُلْنَا لِلْمَلَائِكَةِ اسْجُدُوا لِآدَمَ فَسَجَدُوا إِلَّا إِبْلِيسَ لَمْ يَكُن مِّنَ السَّاجِدِينَ [٧:١١]
अर्थ :- और हमने तुम्हें पैदा किया, फिर तुम्हारा रूप बनाया, फिर हमने फरिश्तों से कहा कि आदम को सिजदा करो, तो, इब्लीस के सिवा सबने सजदा किया, वह सिजदा करने वालों में से न हुआ | 7/11
قَالَ مَا مَنَعَكَ أَلَّا تَسْجُدَ إِذْ أَمَرْتُكَ ۖ قَالَ أَنَا خَيْرٌ مِّنْهُ خَلَقْتَنِي مِن نَّارٍ وَخَلَقْتَهُ مِن طِينٍ [٧:١٢]
अर्थ :- अल्लाह ने उससे कहाः किस बात ने तुझे सज्दा करने से रोक दिया, जबकि मैंने तुझे आदेश दिया था? उसने कहाः मैं उससे उत्तम हूँ। मेरी रचना तूने अग्नि से की है और उसकी मिट्टी से। 7/12 इसके बाद भी उसने अल्लाह के सामने चुनौती दी और कहा गुमराह किया तूने मुझको, मैं भी ताक में बैठूँगा जो तेरे सीधे रास्ते पर होगा उसे मैं गुमराह करूंगा उसके दाहिने से और बाएं से भी उसमें देखेगा की अक्सर लोग तेरे ही खिलाफ होंगे |
قَالَ يَا إِبْلِيسُ مَا مَنَعَكَ أَن تَسْجُدَ لِمَا خَلَقْتُ بِيَدَيَّ ۖ أَسْتَكْبَرْتَ أَمْ كُنتَ مِنَ الْعَالِينَ [٣٨:٧٥]
अर्थ :- कहा अल्लाह ने के ऐ इब्लीस किसने मना किया तुझे इसे सिजदा करने से जिसे बनाया मैंने अपने दोनों हाथों से ? 38/75+76
قَالَ أَنَا خَيْرٌ مِّنْهُ ۖ خَلَقْتَنِي مِن نَّارٍ وَخَلَقْتَهُ مِن طِينٍ [٣٨:٧٦]
अर्थ:उसने कहा मैं इससे अफज़ल हूँ तूने मुझे आग से बनाया और इसे मिटटी से| {इसकी चर्चा कुरान में कई बार कई जगह किया गया है}
मात्र इतना कहा ही नहीं उसने अल्लाह से अपनी मजदूरी भी उसूल कर लिया अल्लाह से, और कहा मैने जो इतना दिन इबादत किया उसकी मजदूरी दे | अल्लाह ने कहा क्या चाहिए तुझे ? उसने कहा मुझे कयामत तक जिन्दा रहने का वरदान दे, और हर एक के नस नाड़ियों तक पहुंचने का भी वरदान दे और जो तेरे सीधे रास्ते पर हो उसे उस रास्ते से भटकाने का भी वर्दान मुझे दे | अल्लाह को यह सारा वरदान उसे देना पड़ा यही किस्सा कुरान की है |
 
कुरान की यह किस्सा बड़ा रोचक और मनोहर भी हैं | एक पते की बात और है की जब आदम पति पत्नी दोनों जन्नत में थे तो उन्हें खाने पीने की जरूरत थी | लेकिन शौच,और मल मूत्र करना नहीं पड़ता था | कारण बताया यह गया की उनके शारीर में छिद्र नहीं थे की वह रफा हाज़त भी करे |
सवाल तो यहीं है कुरान और कुरान के मानने वालों से की आदम जन्नत में इसी शारीर में थे, या दूसरा शारीर था ? जब जन्नत से बाहर आये तो उसी शारीर में छिद्र कैसे बन गये ? अगर उन पति पत्नी के शारीर में छिद्र न होते तो संतान उत्पत्ति कैसे होती ?
यह बेतुकी और तर्क हींन बातें वेद में कहीं नहीं, यहाँ मानव शारीर में नौ छिद्र होते हैं बताया, मुह, का एक छिद्र, नाक के दो छिद्र, आँख के दो छिद्र, कान के दो छिद्र, और दो छिद्र पेशाब और पैखाने के मल मूत्र त्यागने के लिए | यह सब मिला कर मानव शारीर में नौ छिद्र हैं | कुरान का अल्लाह जन्हें जानते भी नहीं| इसके बाद भी कोई कहे, की अल्लाह और ईश्वर एक है वेद और कुरान एक हैं तो इससे मिथ्याचार बड़ा कुछ भी नहीं है | यह मानवों को गुमराह करने वाली बातें हैं, दुनिया में मानव कहला कर भी अगर सत्य असत्य को नहीं जान पाया तो वह मानव कैसे ? मानव होने से सत्य का धारण असत्य का त्याग करना चाहिए |
मह्रन्द्र पाल आर्य 30/जुलाई

Top