Vaidik Gyan...
Total:$776.99
Checkout

अल्लाह के हुकुम को मुसलमान ब खूबी जानते हैं |

Share post:

अल्लाह के हुकुम को मुसलमान ब खूबी जानते हैं |
कुछ भी हो पर ध्यान रहे कि मुसलमान कहलाने वाले इन्हीं आयातों पर अमल करते हुए समग्र विश्व को इस्लाम से भय खाने को कह रहे हैं तथा इस्लाम कबूल करने का दावत दे रहे हैं। या इस्लाम की शक्ति को प्रदर्शित करना चाह रहे हैं, या समग्र विश्व को नचाना चाहता है। कारण अल्लाह ने उनको बताया कि तुम बीस दो सौ काफिरों पर भारी पड़ोगे धैर्य से काम लो। जो आज समग्र दुनियां देख रही है कुरान के मानने तथा कुरान पर चलने वालों के आतंक को ।
अफगानिस्तान, पाकिस्तान, ईरान, ईराक नमूना है। यह है अल्लाह व अल्लाह का फरमान कुरान। मात्र यही आयात नहीं अपितु कुरान भरी पड़ी है ऐसी आयातों से। जो विश्व भर के सभी मुसलमानों को भी इन आयातों का अर्थ नहीं मालूम। आज धरती पर गैर इस्लामियों को जो हम पा रहे है, या देख रहे है इसका भी मूल कारण यही है । प्रत्येक मुसलमानों का कुरान के मायनी मतलब को न समझना या न जानना ही है । क्योंकि कुरान अरबी भाषा में हैं पूरी दुनिया वालों की भाषा अरबी नही हैं, और कुरान की अरबी तथा लौकिक अरबी में अन्तर भी है, फिर भी अरबी जुबान वालों को ही समझने के लिए अल्लाह ने कुरान में अरबवालों को समझने को कहा है। अल्लाह ने कहा –
सुरा युसुफ 2 इन्ना अनजल नहू कुर अनन, अराबियल लमल्लाकुम तयकेलून ।
إِنَّآ أَنزَلْنَـٰهُ قُرْءَٰنًا عَرَبِيًّۭا لَّعَلَّكُمْ تَعْقِلُونَ ٢
अर्थ – जरूर नाजिल किया हमने अरबी में कुरान को जिसे तुम अरब वालों समझ सको। और भी अनेक आयतों में अरब वालों को उपदेश के लिए, डराने और धमकाने के लिए कहा गया है। प्रमाण के लिए मैं बताना चाहूँगा ओसामा तथा समग्र इस्लामिक संगठन के वह लोग किनसे लड़ रहें हैं? और क्यों लड़ रहें हैं? क्या उनके पास किस चीज की कमी है? उनके मिशन में जो विरोधी हैं उन लोगों से ही लड़ रहें हैं। दुनिया वालों को भीं कुरान तथा अल्लाह के बारें में कुछ तो जानकारी लेनी थी।
ओसामा बिन लादेन को अमेरिका ने मारा। क्या कोई भी मुस्लिम देश ने कहा, कि एक आतंकवादी को अमेरिका ने मारकर मानवता की रक्षा की? यह शब्द आज जक किसी भी मुस्लिम देश वालों ने नही कहा। अपितु ओसामा बिन लादेन शहीद हुए सबने कहा। किन्तु शहीद की परिभाषा इस्लाम में क्या है? इसे दुनिया ने जानने का प्रयास ही नहीं किया। इस्लाम शहीद उसे मानती हैं जो गैर इस्लामियों के हाथ मारें जाते हों। सद्दाम के लिए भी यही गहा गया था, और ओसामा अरबी भाषी था, कुरान को जानता व समझता था। अपने मिशन वालों को भी समझाता रहा कि कुरान के अनुसार गैर इस्लामी हमारा शत्रु है उन्हें समूल नष्ट करने का हुकुम अल्लाह ने हमें दिया है। जब तक समग्र धरती एक इस्लाम का दीन न हो जाय, उस समय तक तुम काफिरों से लड़ते रहो। अगर उसमें मारे गये तो शहीद हो गए।
महेन्द्र पाल आर्य =5/1/23

Top