Vaidik Gyan...
Total:$776.99
Checkout

अल्लाह सब कुछ जानता है यह बातें सच नहीं |

Share post:

अल्लाह सब कुछ जानता है यह बातें सच नहीं |
फ़रिश्ते की इबादत से खुश हो कर अल्लाह ने –आबिद –जाहिद –सालेक –और शाकिर तक कह दिया या यह उपाधी उस शैतान को दी अल्लाह ने | तो क्या अल्लाह को यह जानकारी थी की उसीको हमें इब्लीस शैतान, और मलाऊँन भी कहना पड़ेगा ? अगर नहीं जानते थे तो गैब की बातों का जानने वाला अल्लाह कैसे हो गये ? अल्लाह तो अपनी बातों में अटक गए, कौन सी बात अल्लाह की सही है सत्य है ?
और भी देखें जिस अल्लाह ने खुद कहा हजरत आदम को, कि जन्नत में रहो सहो जहां मन करे घुमो जिस फल को चाहो खाओ लेकिन इस फल को मत खाना जो इस अदन के बीच में लगी है उस पेड़ का फल मत छूना |
وَلَقَدْ عَهِدْنَا إِلَىٰ آدَمَ مِن قَبْلُ فَنَسِيَ وَلَمْ نَجِدْ لَهُ عَزْمًا [٢٠:١١٥]
ہم نے اِس سے پہلے آدمؑ کو ایک حکم دیا تھا، 2 مگر وہ بھُول گیا اور ہم نے اُس میں عزم نہ پایا۔
अर्थ : और हम ने आदम से पहले अहद ले लिया कि उस दरख़्त के पास न जाना तो आदम ने उसे तर्क कर दिया,अर्थात आदम ने उसे छोड़ दिया | 20/115
अल्लाह के मना कर ने पर भी अदम ने उसी पेड़ के फल को खाया जिसे अल्लाह ने मना किया था | अभी अल्लाह को गैब की बातों को जानते हैं बताया गया तो कहाँ रह गई अल्लाह की जानकारी ? अब उसे खाने के बाद आदम ने पछ ताया और अपनी गलती का एहसास किया | यह देखें |
قَالَا رَبَّنَا ظَلَمْنَا أَنفُسَنَا وَإِن لَّمْ تَغْفِرْ لَنَا وَتَرْحَمْنَا لَنَكُونَنَّ مِنَ الْخَاسِرِينَ [٧:٢٣]
دونوں بول اُٹھے”اے ربّ! ہم نے اپنے اوپر ستم کیا، اب اگر تُو نے ہم سے درگزر نہ فرمایا اور رحم نہ کیا تو یقیناً ہم تباہ ہو جائیں گے
अर्थ :- यह दोनों पति पत्नी अर्ज करने लगे ऐ हमारे पालने वाले हमने अपना नुक्सान किया और अगर तू हमें माफ़ न फरमाएगा और हम पर रहम न करेगा तो हम बिलकुल घाटे में रहेंगे | 7/23
इन आयत से यह पता लगा की अल्लाह गैब की बातों को नहीं जानते | हजरत आदम को मना करने के बाद भी उस फल के खाने की बात अल्लाह को जानकारी थी क्या ? दूसरी बात अल्लाह ने खुद मना किया आदम को और आदम अल्लाह का हुक्म को नहीं माना तो अल्लाह की तौहीनी नहीं ? यहाँ देखें उस फल को खिलाया शैतान ने और एक को नहीं पति पत्नी दोनों को खिलाया |
अल्लाह ने जहां हुकुम दिया की इसे न खाना, उस अल्लाह के दिए हुकुम को जो पलट दे वेह अल्लाह से शक्तिमान बलवान हुआ या नहीं ? और अल्लाह का न रोक पाना यह कैसे सम्भव हुआ ? शैतान जिस समय आदम पति पत्नी को अल्लाह के मना किये फल को खिला रहा था तो अल्लाह कहाँ थे ? इन बातों की जानकारी अल्लाह को थी या नहीं ? जब अल्लाह गैब की बातों का जानने वाला है, तो अल्लाह पहले से क्यों नहीं जान पाए ? यहाँ अल्लाह को गैब की जानकारी है बताया गया है देखें > सूरा 7/73
وَإِلَىٰ ثَمُودَ أَخَاهُمْ صَالِحًا ۗ قَالَ يَا قَوْمِ اعْبُدُوا اللَّهَ مَا لَكُم مِّنْ إِلَٰهٍ غَيْرُهُ ۖ قَدْ جَاءَتْكُم بَيِّنَةٌ مِّن رَّبِّكُمْ ۖ هَٰذِهِ نَاقَةُ اللَّهِ لَكُمْ آيَةً ۖ فَذَرُوهَا تَأْكُلْ فِي أَرْضِ اللَّهِ ۖ وَلَا تَمَسُّوهَا بِسُوءٍ فَيَأْخُذَكُمْ عَذَابٌ أَلِيمٌ [٧:٧٣]
اور قوم ثمود کی طرف (بھیجا ہم نے) ان کے بھائی صالح ؑ کو اس ؑ نے کہا اے میری قوم عبادت کرو اللہ کی جس کے سوا تمہارا کوئی معبود نہیں ہے تمہارے پاس تمہارے رب کی طرف سے ایک خاص نشانی آگئی ہے یہ اللہ کی اونٹنی ہے تمہارے لیے ایک نشانی تو اسے چھوڑے رکھو کہ یہ اللہ کی زمین میں چرتی پھرے اور اسے نہ چھونا کسی برے ارادے سے (اگر تم نے ایسا کیا) تو ایک درد ناک عذاب تمہیں آپکڑے گا
अर्थ :-और जिस रोज सुर फूंका जाएगा उस रोज बादशाही उसी की होगी वेह गैब और हाजिर सब का जानने वाला है, शहादत का हर चीज का मालिक है | यहाँ भी गैब की खबर को जानता है बताया गया है | परन्तु अल्लाह ने बड़े शौक से अपने फ़रिश्ते को और पैगम्बर आदम को बनाया वही अल्लाह के हुकम को नहीं मानेंगे इसके बारे में अल्लाह को न तो पहले से खबर मिली और न पहले से अल्लाह जान पाए ? 7/73
وَيُذْهِبْ غَيْظَ قُلُوبِهِمْ ۗ وَيَتُوبُ اللَّهُ عَلَىٰ مَن يَشَاءُ ۗ وَاللَّهُ عَلِيمٌ حَكِيمٌ [٩:١٥]
اور ان کے قلوب کی جلن مٹا دے گا، اور جسے چاہے گا توبہ کی توفیق بھی دے گا۔1 اللہ سب کچھ جاننے والا اور دانا ہے
अर्थ :- फिर तुम उसके तरफ पलटते आओगे, वह छुपी और खुली सब को जानता है | और वह तुम को बता देगा तुम क्या कुछ करते रहते हों | 9/15 यहाँ यह बातें भी खुल गई की अल्लाह नहीं जान पाए की आदम अल्लाह का हुकुम अदूली करेगा ? इधर अल्लाह को गैब की बातों का जानने वाला भी बताया गया | अर्थात कुरान की आयातों से सिद्ध हो रहा है की अल्लाह गैब की बातों को नहीं जानता |
दुनिया में भी हम देखते हैं की कोई भी माता पिता नहीं चाहता है कि हमारी औलाद हमारे खिलाफ जाये ? जब अल्लाह ने देखा की आदम हमारे खिलाफ जा रहा है और मना कर भी नहीं रोक पाया | अल्लाह गैब का जानने वाला होकर भी आदम को उन बातों से न रोक पाना यही अल्लाह की गैब की बातें होंगी क्या ? अल्लाह यह भी नहीं जान पाए कि कभी आर्यसमाजियों के पास तेरी यह कलाई खुल जाएगी ? अल्लाह अगर गैब की बातों को जानते होते तो यह सभी आरोप लगाया जाना या सिद्ध होना सम्भव न होता | महेन्द्र पाल आर्य 3/9/22

Top