Vaidik Gyan...
Total:$776.99
Checkout

ईश्वर, और अल्लाह के भेद को जानें |

Share post:

ईश्वर, और अल्लाह के भेद को जानें ||
अल्लाह को पाने के लिए अल्लाह के रसूल को पाना पड़ेगा उससे पहले या उसे छोड़ कोई अल्लाह को नहीं पा सकता | अब यहाँ अल्लाह एक है उसे पाने की बातें कहाँ रह गई ? अल्लाह और अल्लाह के रसूल दो हो गये और दोनों को ही पाना ज़रूरी हो गया |
किन्तु परमात्मा के साथ यह बातें नहीं है परमात्मा एक है एकेला है उसके नाम के साथ किसी का भी नाम जुड़ा नहीं है वे -//*-*/-*/////////////*/*/-/*-*/*-/*`क्या हैं और कैसे हैं वेद बताया |
प्रजापते न त्वदेतान्यन्यो विश्वा जातानी परि ता बभुव |
यत्कामास्ते जुहुमास्तान्नों अस्तु वयं स्याम पतयो रयीणाम ||
अर्थ :-हे सब पजा के स्वामी परमात्मा आपसे भिन्न दूसरा कोई उन इन सब उत्पन्न हुए जड़ चेतनादिकों को नहीं तिरस्कार करता है, अर्थात आप सर्वपरी हैं | जिस –जिस पदार्थ की कमनावाले हम लोग भक्ति करें आपका आश्रय लेंवें और वांछा करें, उस उस की कामना हमारी सिद्ध होवें जिससे हम लोग धनैश्वर्यों के स्वामी होंवें |
अल्लाह और ईश्वर तथा वेद और कुरान में यही भेद है, ईश्वर के लिए कहा गया आप से दूसरा कोई सब उत्पन्न हुए जड़ और चेतन आदि को नहीं तिरस्कार करता, अर्थात आप सर्वोपरि हैं |
 
स्पष्ट यह हुआ की ईश्वर के साथ किसी का भी नाम नहीं है या ईश्वर को छोड़ दुसरा कोई नहीं है इसी लिए वह सर्वपरि है | किन्तु अल्लाह के नाम के साथ हजरत मुहम्मद {स} का नाम जुडा है इन दोनों नामों को अलग करना या किया जाना सम्भव नहीं |
एक तरफ ईश्वर के नाम के साथ किसी का नाम लगा नहीं है, दूसरी ओर अल्लाह के नाम से एक और नाम रसूल का लगा है इतना प्रमाण मिलने के बाद कोई कहे की ईश्वर अल्लाह एक है, वेद कुरान सब एक है यह किस प्रकार सम्भव हो गा ?
 
जो ईश्वर किसी को तिरस्कार नहीं करता बताया गया है | इधर अल्लाह एक मुसलमान को छोड़ सब को तिरस्कार किया है, अर्थात अल्लाह एक मुसलमान को छोड़ किसी और को फूटी आँखों से भी देखना नहीं चाहते |
गैर मुस्लिम जिंतने भी हैं अल्लाह उन्हें जहन्नुम के आगका इंधन बनायेंगे बोला है फिर अल्लाह और ईश्वर एक क्यों और कैसे हैं ? देखें क्या कहा अल्लाह ने कुरान में | 2 /24
فَإِن لَّمْ تَفْعَلُوا وَلَن تَفْعَلُوا فَاتَّقُوا النَّارَ الَّتِي وَقُودُهَا النَّاسُ وَالْحِجَارَةُ ۖ أُعِدَّتْ لِلْكَافِرِينَ [٢:٢٤]
अर्थ :- मैं कह देता हूँ की तुम नहीं ला सकते कुरान का नकल, तो तुम्हारा ठिकाना है जहन्नुम की आग जिस आग का इंधन काफिरों को बनाया जायगा |
 
ईश्वर किसी का तिरस्कार नहीं करता अल्लाह काफिरों को जहन्नुम की आग में डाल रहे हैं इसके बाद भी कोई कहे की ईश्वर अल्लाह एक है, वेद और कुरान का उपदेश एक है तो यह मानना किस प्रकार मानव कहलाने वालों का सम्भव होगा ?
 
ईश्वर अल्लाह एक नहीं का अनेक प्रमाण मैं दे चूका हूँ इसके बाद भी कोई न माने तो उसको सत्य बताने वाला कोई नहिन्होगा और |
महेन्द्र पाल आर्य 20 जून 22

Top