Vaidik Gyan...
Total:$776.99
Checkout

जब की झूठे और मक्कार ने कहा |

Share post:

जब की झूठे और मक्कार ने कहा |
मजहब नहीं सिखाता है आपस में बैर रखना ||
जो लोग अगले 17 की चेतावनी दे रहे, और पिछले दो जुम्में में मजहबी वालों द्वारा दुनिया ने नहीं देखि की यही तो मजहबी जूनून है,जो किया जा रहा है ||
भारत में जो तांडव चल रहा है क्या यह मज़हबी बैर नहीं है ? फिर इस झूठ को भारत के लोगों ने कैसे स्वीकार कर लिया,की मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना | अरे साहब आपसी बैर तो दूर रही भारत वासियों को भारत छोड़ कहीं और जाने तक की बात कही गई यह क्या है ?
नुपुर शर्मा ने जो बोला सारे लोग उसे ही कोस रहे हैं, जब की उतना ही दोषी तस्लीम रहमानी भी है | नुपुर शर्मा को बोलने के लिए मजबूर किया तस्लीम रहमानी, लेकिन उसका नाम एक बार भी किसी ने नहीं लिया क्यों ?
इसपर चिन्तक और गवेषक मौन क्यों हैं ? तस्लीम रहमानी मुसलमान है इसलिए, और नुपुर शर्मा हिन्दू होने के नाते मुहम्मद का नाम क्यों लिया ? जब की भारत वासियों को पता नहीं की भारत से बाहर बंगला देश में कितने मौलानाओं ने इसी विषय पर क्या क्या बोला है, तथा पाकिस्तानी मौलानाओं ने इन्ही हजरत मुहम्मद पर क्या क्या विडिओ बना कर दुनिया में परोसा है | यह हमारे देश का दुर्भाग्य है की हमें दोस्त और दुश्मन की पहचान आज तक नहीं ?
भारत सरकार के इस लचीलेपन से भारत को बहुत बड़ा नुक्सान हुआ है और आज भी हो रहा है | भारत ने जिन मुसलमानों को अपना भाई कहा है यह इस्लाम के विरुद्ध है कुरान में अल्लाह ने मना किया की काफिरों को दोस्त न बनाओ वह लोग इसपर अमल कर रहे हैं | लेकिन हिन्दू इसे जानता तक नहीं है और यही हिन्दू प्रोमोद कृष्णम जैसे उनके मंच पर हजरत मुहम्मद के नाम गजलें गा रहे हैं | जिन हिन्दू को आज तक यह पता नहीं लगा कि तू जितना भी मुहम्मद के नाम गुणगान गाये जा परन्तु तू हैं काफ़िर और तू है जहन्नुमी, गजलें गाने से तो कभी भी जन्नत नहीं जा सकता, तेरे लिए जन्नत का रास्ता बन्द है | परन्तु इन हिन्दूओं को कौन समझाए इस सत्यता को, यह समझने को भी तैयार नहीं देखें यह लिंक प्रोमोद कृष्णन इस्लामी मंच पर क्या गा रहे हैं ?
https://www.facebook.com/watch/?ref=search&v=415149340463576&external_log_id=26a4aad1-22c1-4825-8249-1a755d6e3eda&q=deccandigest

Top