Vaidik Gyan...
Total:$776.99
Checkout

लोग हठी और दुराग्रही हैं ||

Share post:

लोग दुराग्रह से ग्रसित हैं || नुपुर शर्मा को फेसबुक पोष्ट में लिखे का ज़वाब ||
स्वस्थ विवेचना के साथ, पहली बात तो यह की तीन चीज कभी वापस नहीं आती | जान जिस्म से = तीर कमान से =और बात जुबान से | अगर यह जानकारी आप को होती तो अपनी बात वापस लेती हूँ यह न कहतीं | जो बात बोली गई वह सत्य है या झूठ यही देखना है माफ़ी मांगने का तो कोई सवाल ही नहीं है | कारण किसी कौम के लोग जिन्हें अपना महापुरुष मानते हैं | देखना तो यह है की महापुरुष कहते किसे हैं ? किसी व्यक्ति के गुण के आधार पर ही उन्हें महापुरुष कहा जाता है |
अब उनकी जीवन की कोई घटना आप ने सुना दी, लोगों को उसपर विचार करना चाहिए की यह महापुरुष के जीवन में होना उचित है अथवा अनुचित ? अब विचार करने के बजाय दोष देने लगे यही तो बात हुई है |
किसी को महापुरुष कहा जाय और उन्हों ने अपने मुह बोला बेटे की तलाक शुदा पत्नी से निकाह करें तो मानव कहलाने वाले होने से यह सोचना ही पड़ेगा की यह महापुरुषों के गुण हैं क्या ? और दुनिया का मालिक इसपर यह बताएं की तुम्हारे कौम के सभी लोगों को यह मान्य कर दिया गया | ऐसी मानसिकता जिस कौम के लोगों में हो इसे मानव समाज आसानी से समझ सकते हैं की कितनी मानवता विरुद्ध की बातें है उन लोगों में ?
किसी भी टीवी चेनल में यह कहते नहीं सुना की क्या उनके जीवन की यह घटना है ? उन्हों ने ऐसा किया था ? यह कोई कह ने को तैयार नहीं | जब की यह सारी घटनायें उन्ही लोगों की लिखी पुस्तक और ईशवाणी में मौजूद है | तो क्या यह लोग अपनी बातों को झुठला सकते हैं ? फिर यह दुराग्रह क्यों ?

Top